Latest

कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं, Maine Kab Dekhi Thi Barasat Mujhe Hosh Nhi

कितनी पी कैसे कटी रात मुझे होश नहीं,
रात के साथ गई बात मुझे होश नहीं

मुझको ये भी नहीं मालूम कि जाना है कहॉं
थाम ले कोई मेरा हाथ मुझे होश नहीं

ऑंसूओं और शराबों में गुजारी है हयात
मैंने कब देखी थी बरसात मुझे होश नहीं

जाने क्‍या टूटा हे पैमाना कि दिल है मेरा
विखरे-विखरे है खयालात मुझे होश नहीं



Kitni Pee Hai Kaisi Kati Hai Raat Mujhe Hosh Nhi
Raat Ke Sath Gyi Baat Mujhe Hosh Nhi

Mujhko Ye Bhi Nhi Maalum Hai Ki Jana Hai Kahan
Tham Le Koi Mera Hath Mujhe Hosh Nhi

Aansuo Aur Sharabo Me Guzari Hai Hayat
Maine Kab Dekhi Thi Barasat Mujhe Hosh Nhi

Jane Kya Tuta Hai Paimana Ki Dil Hai Mera
Bikharein Bikharein Hai Khyalat Mujhe Hosh Nhi


No comments