Latest

शहर में आग लगाने के लिये काफी हूं Main Shahar Me Aag Lagane Ke Liye Kaafi Hu

इश्क में जीत के आने के लिये काफी हूं
में निहत्था ही जमाने के लिये काफी हू

मेरी हकीकत को मेरी खाफ समझने वाले
में तेरी नींद उड़ाने के लिये काफी हूं

मेरे बच्चों मुझे दिल खोल के तुम खर्च करो
में अकेला ही कमाने के लिये काफी हूं

एक अखवार हूं औकात ही क्या मेरी
मगर शहर में आग लगाने के लिये काफी हूं


Ishq Me Jeet Ke Aane Ke Liye Kaafi Hu
Main Nihattha Hi Zamane Ke Liye Kaafi Hu

Meri Kaqiqat Ko Meri Khaq Samajhane Walein
Main Teri Neend Udane Ke Liye Kaafi Hu

Mere Bachche Mujhe Tum Dil Khol Ke Kharch Karo
Main Akela Hi KAmane Ke Liye Kaafi Hu

Ek Akhabar Hu Aukat Hi Kya Meri
Magar Main Shahar Me Aag Lagane Ke Liye Kaafi Hu

साभार राहत इन्दौरी साहब

No comments