Latest

BEWAFA SHAYARI

1. तेरी खातिर हर दिन आँसू बहाये हमने,
हर सितम सह कर कितने ग़म छिपाये हमने,
तू छोड़ गया जहाँ हमें राहों में अकेला,
बस तेरे दिए ज़ख्म हर एक से छिपाए हमने।

2. बेरुखी को उनकी अदाओं में देखा, 
नफरत को मोहब्बत की आँखों में देखा, 
आँखें नम हुईं और मैं रो पड़ा
जब अपने को गैरों की बाहों में देखा।

3. वो मोहब्बत भी तेरी थी, वो नफ़रत भी तेरी थी,
वो अपनाने और ठुकरानी की अदा भी तेरी थी,
मे अपनी वफ़ा का इंसाफ़ किस से माँगता..
वो शहर भी तेरा था, वो अदालत भी तेरी थी! 


4. जिन फूलों को संवारा था 
हमने अपनी मोहब्बत से 
जब खुशबू के काबिल हुए 
तो बस गैरों के लिए महके। 


5. मेरा भरोसा मजाक बनकर रह गया,
दिल का दर्द एक राज बनकर रह गया,
दिल के सोदागरो से दिल्लगी कर बैठे,
इसीलिए मेरा प्यार इक अल्फाज बनकर रह गया


6. जो पुराना खेल है तेरा, 
चलो खेलें वही बाजी 
तू फिर से बेवफाई करना 
मैं फिर आँसू बहाऊंगा


7.  कभी आकर मेरे हालात की तस्वीर तो देखो,
बिछड़ के तुमसे जिंदा हूँ, मेरी तकदीर तो देखो,
देकर प्यार की दौलत खरीदे खून के आंसू,
मिली जो इश्क में हमको जागीर तो देखो


8.  मेरे न सही, किसी के दिल में बसे तो सही
खुश हूँ कि मुझको जला के तुम हँसे तो सही


9. महसूस हुआ तब, जब वो जुदा हुए,
आग दिल में लगी जब वो खफ़ा हुए,
करके वफ़ा कुछ दे ना सके वो,
पर बहुत कुछ दे गए जब वो बेवफ़ा हुए।


10. कभी इकरार बदलते है कभी इंकार बदलते रहते हैं
 कुछ लोग यहाँ पर ऐसे है जो यार बदलते रहते हैं। 

No comments