Latest

आखिर आरक्षण कब तक ?

आरक्षण आज का मुद्दा नहीं हैं पिछले कई दशकों से आरक्षण पर चर्चाये होती रह है
सविधान में आरक्षण को अस्थायी रूप से सिर्फ १५ वर्ष के लिए लागु किया गया था
लेकिन ये आरक्षण कालिया नाग की तरह अपना फन फैलता रहा
आज देश की समस्या गरीबी नहीं हैं , भुखमरी नहीं हैं , आतंकवाद नहीं हैं
आज देश का सबसे बड़ा समस्या काबिल सवर्णो के हक़ को छीना जा रहा वो हैं
आज आरक्षण देश में इसलिए हैं की हम सवर्णो में एकता नहीं हैं



गुजरात में पाटीदार और राजस्थान में गुर्जर, हरियाणा में जाट सहित कई क्षेत्रों में कई जातियों को आरक्षण देने की बढ़ती मांगों को देखते हुए हमें आरक्षण के खिलाफ कदम उठान होगा
अगर आरक्षण ख़त्म नहीं किया गया तो पाकिस्तान के बाद भारत फिर दो भागो में बात जायेगा
हमारे देश के प्रधानमंत्री मोदी जी , जिनसे सवर्णो को उम्मीदे थी , उन्होंने तो चैलेंज कर दिया
की मेरे जीते जी आरक्षण ख़त्म नहीं किया जा सकता
आज नेताओ ने प्राइवेट सेक्टर्स में भी रिजर्वेशन की वकालत करनी शुरू कर दी
अगर सवर्ण नहीं जागे तो उनकी आने वाली पीढ़ियों का भविष्य अंधकार में ही रहेगा

No comments